LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

ज़रूरतें


हर दिन ज़रूरतें,  
मेरी गर्दन पर एक जुआ रख देती हैं !

हर दिन मैं एक कोल्हू खींचता हूँ 
और कोल्हू मुझे !

सारा दिन -
ऊब  के साथ एक ही वृत्त में घूमते रहना 
सरसों के साथ मेरा भी तेल निकाल लेता है !

और शाम 
एक खाली बोरी घर वापस लौटती है ,
जिसके मुंह का एक कोना अब भी खुला  है !

है न अजीब !

18 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद ! आपके स्नेह के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ajeeb hi hai jindagi shayad....par magar jeena hai ..to kya hu hai ajeeb hi sahi...

    bahut sudar rachna ke liye badhai swuikaar karen sir aur aane waale ajee se nav varsh ki badhai bhi

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिसके मुंह का एक कोना अब भी सिला है !
    हा...हा...हा....
    जिसका एक कोना अब भी खुला है लिखते तो हाँफते से लगते न ....?

    उत्तर देंहटाएं
  5. der se aane ko mafi chahti hu
    bahut khubsurat rachna
    ....
    kabhi yaha bhi aaye
    www.deepti09sharma.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर दिन ज़रूरतें,
    मेरी गर्दन पर एक जुआ रख देती हैं !

    हर दिन मैं एक कोल्हू खींचता हूँ
    और कोल्हू मुझे !


    Misir ji ek rekha si kheech di hai aapne man me ..........waah
    .http://amrendra-shukla.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. और शाम
    एक खाली बोरी घर वापस लौटती है ,
    जिसके मुंह का एक कोना अब भी सिला है !

    बहुत अच्छी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  8. है न अजीब ....खूब कहा ...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ....शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर, जिंदगी की जद्दोजहद को शब्द दे दिये आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. "हर दिन ज़रूरतें, /मेरी गर्दन पर एक जुआ रख देती हैं !/हर दिन मैं एक कोल्हू खींचता हूँ /और कोल्हू मुझे !"- बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है आपकी. जीवन का सम्पूर्ण संघर्ष इन पंक्तियों से व्यंजित होता है. बधाई स्वीकारें. अवनीश सिंह चौहान

    उत्तर देंहटाएं
  11. फिर एक बार इस कविता आनंद लिए जा रही हूँ .....

    जुए के बाद हल के इन्तजार में .......

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी रचना
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सभी मित्रों का सुन्दर टिप्पणियों के लिए
    हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है