LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

बुधवार, 18 अगस्त 2010

सुबह का ख़्वाब

सुबह का ख़्वाब,
वो भी प्रीतम का,
तन और मन जैसे,
चिपक गए होँ कसके,
देखो कितनी,
लाल हो गई है सुबह,
खीँच कर छुड़ाने मेँ,
अब दिन भर,
खिँचे खिचे रहेँगे दोनोँ,
कहीँ अटके अटके,
पुरानी यादों  के,
कमरे मेँ,
मैले भारी परदोँ जैसे,
उदास हिलते रहेँगे,
लटके लटके।.

4 टिप्‍पणियां:

  1. देखो कितनी,
    लाल हो गई है सुबह,
    खीँच कर छुड़ाने मेँ,
    अब दिन भर,
    खिँचे खिचे रहेँगे दोनोँ,
    कहीँ अटके अटके,

    वाह...वाह....प्रेम रस में भीगी सुबह मुबारक हो .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या लिख दिया लाजबाव । जोरदार प्रात ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया अरुण जी .....
    पर ये आप अब ख्वाब से कब निकलेंगे .....??

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है