LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

बुधवार, 28 सितंबर 2011

तीन कवितायेँ




१.
उस नारी-देह से
अपने मतलब के हिस्से
घर उठा लाया था,
सिर और पैर
बाहर ही छोड़ आया था !
सिर की जगह एक खाली डिब्बा
और पैरों की जगह पहिये लगाने के बाद
मुझे लगा कि
अब मैं चैन से रह सकता हूँ !
लेकिन गाहे-ब-गाहे सिर की ताक-झाँक ने
मेरी चिंता बढ़ा दी
अक्सर पैर चहारदीवारी से
लटके मिलते !
मैंने खिडकियाँ बंद कर दीं और-
चहारदीवारी ऊँची कर दी !
इस बीच उस नारी-देह ने
एक बच्ची को जन्म दिया,
मैंने देखा
उसके दो सिर और चार पैर थे ! 
२.
ओ माँ ,
ओ बहन ,
ओ बेटी ,
माल की बिक्री बढ़ाने के लिए
विज्ञापनों में
पहले तुम्हारा सलोना चेहरा,
रसीले होंठ ,
आमंत्रण देती आँखें लगाईं ,
फिर अधखुला वक्ष, जांघें ,नितंब ........
अब और क्या लगाऊँ ?
आज-कल धंधा
फिर मंदा है !
३.
हाँ !
सुख चाहा था मैंने
मगर ऐसे तो नहीं कि --
तुम उसे मुझ में ठूँस दो
या पटक कर चले जाओ !


2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी तीनों कविताएँ मन को छूतीं हैं. आज आधी दुनिया बाजार और विज्ञापन की वस्तु बन गई है-
    ओ माँ ,
    ओ बहन ,
    ओ बेटी ,
    माल की बिक्री बढ़ाने के लिए
    विज्ञापनों में
    बहुत सुन्दर. बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  2. तीनो कवितायेँ अद्भुत हैं .....जिनकी तारीफ शब्दों में नहीं की जा सकती

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है