LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 21 जनवरी 2013

हड़बड़ी


देर से उठा सूरज 
हड़बड़ा कर  
उसी आकाश  में निकल आता है    
जिसमें कल डूबा   था !

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है