LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 21 जनवरी 2013

परिवर्तन


नदी के बहते पानी की तरह
नहीं होता है परिवर्तन, 
वह होता है --
जैसे सीढ़ियों पर रखे हों बर्तन ,
पहले एक भरे
फिर उससे होकर दूसरे में 
गिरने लगे  पानी 
तब तक तीसरा
इंतज़ार करे.........
.......................
......................
तुम किस बर्तन में हो
जानते हो ? 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है