LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 21 जनवरी 2013

गोल पत्थर


Saturday, November 17, 2012
वह पत्थर
गोल तो नहीं था
लेकिन एक लम्बी ढलान पर
देर तक लुढ़कने के बाद
गोल हो गया !

अब एक हलकी -सी ठोकर
उसे दूर तक लुढ़का देती है |

लेकिन एक और पत्थर भी है
उससे भी ज्यादा गोल और चिकना
--उसका प्रतिरोध ,
जब लुढ़कता है
उससे भी आगे जाता है |

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी मूल्यवान प्रतिक्रिया का स्वागत है